10.1 C
Delhi
Sunday, January 23, 2022

अन्याय, अधर्म और अत्याचार के धुर विरोधी एवं वीरता की प्रतिमूर्ति, गुरु गोविंद सिंह #Realviewnews

जरूर पढ़े

विधान सभा चुनाव 2022 : क्यों सुर्खियों में है जौनपुर की जाफराबाद सीट #Realviewnews

स्पेशल रिपोर्ट - वारीन्द्र पाण्डेय  जौनपुर, रियल व्यू न्यूज । गंगा जमुनी तहजीब को अपने अंतस्थल में समेटे पूर्वांचल का...

यूपी टीईटी परीक्षा : दूसरे के स्थान पर परीक्षा देने आये दो आरोपी चढ़े एसटीएफ के हत्थे #Realviewnews

जौनपुर । टीइटी में इस बार दूसरे के स्‍थान पर परीक्षा देने वालों और डिवाइस से नकल करने वालों...

मुकदमा दर्ज होने के बाद भाजपा विधायक ने दी सफाई, बोले पुरानी फोटो की गई वायरल #Realviewnews

जौनपुर । आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन में जिले के बदलापुर के भाजपा विधायक रमेशचंद्र मिश्रा समेत दो लोगों...

( गुरु गोविंद सिंह की पुण्यतिथि पर आमंत्रित लेख )

आलेख – अनिल यादव ( मैनेजमेंट गुरु )

गुरु गोविंद सिंह जी  ने कभी भी जमीन, धन-संपदा, राजसत्ता-प्राप्ति या यश-प्राप्ति के लिए लड़ाइयां नहीं लड़ीं। उनकी लड़ाई होती थी अन्याय, अधर्म एवं अत्याचार और दमन के खिलाफ। युद्ध के बारे में वे कहते थे कि जीत सैनिकों की संख्या पर निर्भर नहीं, उनके हौसले एवं दृढ़ इच्छाशक्ति पर निर्भर करती है। जो नैतिक एवं सच्चे उसूलों के लिए लड़ता है, वह धर्मयोद्धा होता है तथा ईश्वर उसे विजयी बनाता है।
गुरुजी की लड़ाई सिद्धांतों एवं आदर्शों की लड़ाई थी और इन आदर्शों के धर्मयुद्ध में जूझ मरने एवं लक्ष्य-प्राप्ति हेतु वे ईश्वर से वर मांगते हैं- ‘देहि शिवा वर मोहि, इहैं, शुभ करमन ते कबहू न टरौं।’
उनकी वीरता और यशकीर्ति से मुगल बादशाह औरंगजेब बहुत जलता था । वह चाहता था कि कल बल छल किसी तरह पराजित करके गुरु गोविंद सिंह को अपने पैरों पर मत्था टिकवाऊ किंतु सिखों का यह बब्बर शेर उसकी गीदड़ भभकियों में कहां आने वाला था । एक बार की बात है । जब गुरु गोविंद सिंह दिसंबर 1704 में दुर्ग छोड़कर जा रहे थें । उनके साथ उनके दोनों बड़े बेटे और 40 सिखों की छोटी सी टुकड़ी थी । मौका देखकर मुगलों ने इनपर हमला कर दिया था । यें लोग दोनों तरफ से घिर चुके थें । ऐसे में उन 40 सिख सैनिकों ने अकेले गुरु गोविंद सिंह की सलामती के लिये सवा लाख मुगलों से मोर्चा थाम लिया । अपनी सांस के अंतिम क्षण तक वें वीरता पूर्वक लड़ते रहे । मुगलसेना को लोहे के चने चबाने पड़े और अंततः गुरु गोविंद सिंह उनके कब्जे में ना आ सके ।

सिखों के दसवें और अंतिम गुरु गुरु गोविंद सिंह जी ऐसे वीर संत थे, जिनकी मिसाल दुनिया के इतिहास में कम ही मिलती है। उन्होंने मुगलों के जुल्मो सितम के सामने कभी भी घुटने नहीं टेके । उन्होंने सिख समुदाय के बीच खालसा पंथ की स्थापना की। आज उनका शहीदी दिवस है। 1708 में 7 अक्टूबर को वे मुगलों से लड़ाई में शहीद हुए।

वाहे गुरु जी का खालसा, वाहे गुरु जी की फतेह के नारे के बीच उनके द्वारा कहा गया प्रसिद्ध दोहा उनकी वीरता को बयां करता है । “सवा लाख से एक लड़ाऊं, चिड़ियन ते मैं बाज तुड़ाऊं, गीदड़ नू से शेर बनाऊं , तबै गुरु गोबिंद सिंह नाम कहाऊं ”
15वीं सदी में गुरु नानक ने सिख पंथ की स्थापना की। गोविंद सिंह जी के पिता गुरु तेग बहादुर भी इस पंथ के गुरु थे।

गुरु गोविंद सिंह ने 1699 में खालसा पंथ की स्थापना की थी। खालसा के माध्यम से उन्होंने राजनीतिक एवं सामाजिक विचारों को आकार दिया। आनंदपुर साहिब के मेले के अवसर पर सिखों की सभा में ‘गुरु के लिए पांच सिर चाहिए’ की आवाज लगाई तथा जो व्यक्ति तैयार हो उसे आगे आने को कहा। एक के बाद एक पांच लोगों को पर्दे के पीछे ले जाया गया तथा तलवार से उनका सिर उड़ा दिया गया। इस प्रकार पांच व्यक्ति आगे आए। बाद में पांचों जीवित बाहर आए और गुरुजी ने उन्हें ‘पंच प्यारा’ नाम दिया। वे सारे समाज और देश को एक सूत्र में पिरोना चाहते थे। यही भाव सारे समाज में संचरित करने के लिए खालसा के सृजन के बाद गुरु गोविंद सिंह ने खुद पंच प्यारों के चरणों में माथा टेका।
इन्होंने जीवन जीने के पांच सिद्धांत दिए, जिन्हें ‘पंच ककार’ के नाम से जाना जाता है। गोविंद सिंह के संदेश के अनुसार ही खालसा सिखों में पांच चीजों को अनिवार्य माना जाता है। ये पांच चीजें हैं- केश, कड़ा, कृपाण, कंघा और कच्छा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

पॉपुलर

शिक्षा को अवसर में बदलने की चुनौती #Realviewnews

रीयल व्यू न्यूज ।  (शिक्षक दिवस पर आमंत्रित लेख)   लेख - अनिल यादव ( मैनेजमेंट गुरु )   लंबे अरसे के बाद आई...

अन्य

सपा प्रमुख अखिलेश यादव की बड़ी घोषणा, सरकार बनने पर आइटी सेक्टर में 22 लाख को देंगे रोजगार #Realviewnews

लखनऊ, रियल व्यू न्यूज । उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव को लेकर समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने शनिवार को अपने घोषणा पत्र...

कोविड गाइडलाइन के साथ हुआ तहसील बार असोसिएशन का शपथ ग्रहण कार्यक्रम #Realviewnews

रिपोर्ट - अखिलेश कुमार मिश्र  लालगंज, (आज़मगढ़ ) । तहसील बार एसोसिएशन का शपथ ग्रहण समारोह शनिवार को कोविड-19 गाइड लाइन के अनुसार संपन्न हुआ...

सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव की बहू अपर्णा यादव बीजेपी में शामिल, देखे पूरी रिपोर्ट #Realviewnews

लखनऊ, रियल व्यू न्यूज । अपर्णा यादव यानी समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव की छोटी बहू आज भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) में...

प्रदेश में आम आदमी पार्टी की सरकार बनीं तो किसानों के पुराने कर्जे माफ, फ्री बिजली देगी सरकार : संजय सिंह #Realviewnews

लखनऊ, रियल व्यू न्यूज । आम आदमी पार्टी (आप) ने किसानों के लिए बड़ी घोषणा की है। पार्टी के प्रदेश प्रभारी संजय सिंह ने...
- Advertisement -

खबरे आज की

मुकदमा दर्ज होने के बाद भाजपा विधायक ने दी सफाई, बोले पुरानी फोटो की...

जौनपुर । आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन में जिले के बदलापुर के भाजपा विधायक रमेशचंद्र मिश्रा समेत दो लोगों के खिलाफ शनिवार को मुकदमा...

भाजपा आई टी सेल की हुई बैठक

रिपोर्ट - कमलेश त्रिपाठी  सुइथाकलां, (जौनपुर) । भाजपा आई.टी. व सोशल मीडिया विभाग की शाहगंज विधानसभा स्तरीय एक संयुक्त बैठक रविवार को क्षेत्र के रूधौली...

मां शीतला के भव्य श्रृंगार से मोहित हुए भक्त #Realviewnews

जौनपुर । शक्तिपीठ शीतला चौकिया धाम में श्रृंगार महोत्सव की धूम है। रविवार से प्रारंभ तीन दिवसीय महोत्सव के प्रथम दिन मां शीतला व...

विधान सभा चुनाव 2022 : क्यों सुर्खियों में है जौनपुर की जाफराबाद सीट #Realviewnews

स्पेशल रिपोर्ट - वारीन्द्र पाण्डेय  जौनपुर, रियल व्यू न्यूज । गंगा जमुनी तहजीब को अपने अंतस्थल में समेटे पूर्वांचल का जौनपुर शहर अपनी विरासत के...

यूपी टीईटी परीक्षा : दूसरे के स्थान पर परीक्षा देने आये दो आरोपी चढ़े...

जौनपुर । टीइटी में इस बार दूसरे के स्‍थान पर परीक्षा देने वालों और डिवाइस से नकल करने वालों की एक नहीं चली। रविवार...

More Articles Like This