15.1 C
Delhi
Wednesday, February 1, 2023

श्रृंगार रस की भक्ति सर्वश्रेष्ठ : दिव्य मोरारी बापू #Realviewnews

जरूर पढ़े

रिपोर्ट – दीपक शुक्ला 

मुंगराबादशाहपुर, जौनपुर। भगवान् की भक्ति पांच प्रकार की होती है जिससे श्रृंगार भाव की भक्ति सर्वश्रेष्ठ होती है। ये बाते कटरा मार्ग पर स्थित सृष्टि पैलेश मे आयोजित भागवत कथा के नौवे दिन दिव्य मोरारी बापू ने कही। स्वामी जी ने आगे कहा कि सख्य भाव की भक्ति सुदामा की थी। श्रृंगार भक्ति मीरा की थी। इस दौरान उन्होंने जमवंती, सत्यभामा, कालिंदी, आदि आठ पटरानियों के विवाह कि कथा बिस्तार से भक्तो को सुनाया। इसके साथ ही भौमासुर का उद्धार, भगवान् के विवाह की कथा सुनाई। उन्होंने सुदामा चरित्र, भगवान् श्रीकृष्ण द्वारा सुदामा का स्वागत, सुदामा को ऐश्वर्य की प्राप्ति की भी कथा बिस्त्रित बताई। इस दौरान सुदामा चरित्र की मार्मिक झाकी भी निकाली गई जिसे भक्त जन देख भाव विभोर हो गए। कथा के मुख्य यजमान पूर्व चेयरमैन कपिल मुनि, सुरेश सेठ रहे। इस दौरान राजेश गुप्त, विश्वामित्र, सोनिया गुप्ता, राकेश गुप्त, समेत बडी संख्या में भक्त जन मौजूद रहे।

विज्ञापन

उच्च शिक्षा का बेहतर शिक्षण संस्थान, वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय से संबद्ध
आचार्य बलदेव ग्रुप आफ इन्स्टिट्यूशन, कोपा, पतरही, जौनपुर । 
प्रबंधक – अनिल यादव मैनेजमेंट गुरु 

spot_imgspot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

पॉपुलर

शिक्षा को अवसर में बदलने की चुनौती #Realviewnews

रीयल व्यू न्यूज ।  (शिक्षक दिवस पर आमंत्रित लेख)   लेख - अनिल यादव ( मैनेजमेंट गुरु )   लंबे अरसे के बाद आई...

अन्य

- Advertisement -spot_img
[td_block_11 custom_title="खबरे आज की " sort="random_today" block_template_id="td_block_template_8" border_color="#f91d6e" accent_text_color="#1a30db"]

More Articles Like This