28 C
Delhi
Monday, May 23, 2022

वाराणसी में राजघाट पुल के पास बनेगा एक और पुल, ऊपर से सड़क तो नीचे से रेलवे लाइन गुजरेगी #Realviewnews

जरूर पढ़े

कांग्रेस ने आरती सिंह को बनाया बदलापुर विधान सभा से प्रत्याशी #Realviewnews

पूर्व सांसद स्व. कमला प्रसाद सिंह की हैं पौत्रवधु 2017 में एक भी सीट नहीं जीत पायी थीं कांग्रेस रियल व्यू...

जौनपुर में बसपा प्रत्याशियों के नाम पर अभी भी कर रही मंथन  #Realviewnews

रियल व्यू न्यूज, जौनपुर । भाजपा, सपा, कांग्रेस और आम आदमी पार्टी, वीआईपी जैसी पार्टियों ने जगह-जगह अपने प्रत्याशी...

जौनपुर के प्रतिष्ठित फर्म कीर्ति कुंज और गहना कोठी पर आयकर विभाग का छापा #Realviewnews

लंबी चल सकती है जांच की कार्यवाही रियल व्यू न्यूज, जौनपुर । शहर के बड़े सराफा कारोबारी और प्रतिष्ठित कीर्ति...

रियल व्यू न्यूज, वाराणसी ।  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में गंगा पर एक और पुल का तोहफा जल्द मिलेगा। यह पुल ऐतिहासिक राजघाट पुल के बगल से गुजरेगा। इसकी चौड़ाई व लंबाई राजघाट पुल की तर्ज पर ही होगी। फोरलेन के साथ 70 मीटर चौड़ाई वाला गंगा में यह नया पुल होगा। ऊपर से सड़क तो नीचे से रेलवे लाइन गुजरेगी। पुल का निर्माण अभी डीपीआर स्तर पर है। अधिकारियों के अनुसार योजना पर कुल दो हजार करोड़ रुपये खर्च होंगे।

वाराणसी में राजघाट पुल के पास बनेगा एक और पुल, ऊपर से सड़क तो नीचे से रेलवे लाइन गुजरेगी #Realviewnews

वाराणसी-पीडीडीयू नगर के बीच दोहरीकरण किया जा रहा है। इसके लिए नई रेल लाइन बिछाई जा रही है। यह रेल लाइन गुड्स गाड़ियों के संचालन की होगी। अधिकारियों के अनुसार, कैंट रेलवे स्टेशन पर उत्तर, पूर्वोत्तर, पूर्व मध्य रेलवे, उत्तर मध्य रेलवे समेत अन्य जोन की ट्रेनों के आवागमन के चलते गुड्स ट्रेनों को कई घंटे तक शहर के बाहरी इलाकों के स्टेशन पर रोके रहना पड़ता है। भविष्य में ट्रेनों के दबाव को कम करने के लिए उत्तर रेलवे ने नई रेल लाइन की मंजूरी दी है।
राजघाट पुल की मियाद हो चुकी पूरी
इस पुल का निर्माण ब्रिटिश काल में 1887 में हुआ था। उस समय पूरे एशिया में यह अपनी तरह का पहला पुल था। पहले इसका नाम डफरिन ब्रिज था। जिसे आजादी के बाद नाम बदल कर मालवीय सेतु किया गया। बनारस के लोग इसे राजघाट पुल के नाम से पुकारते हैं। यह पुल कई बार जर्जर हुआ और कई बार इसकी मरम्मत की गई। लेकिन उचित देखभाल की कमी से हमेश यह खतरा बना रहता है कि कभी कोई बड़ा हादसा न हो जाए। पहले यह केवल रेलवे के आवागमन के लिए था। बाद में इसे पैदल व मालवाहकों के लिए खोला गया।
राजघाट पुल के बगल में एक पुल प्रस्तावित है। इसका निर्माण रेलवे और एनएचएआई को मिलकर करना है। अभी यह डीपीआर स्तर पर है। जल्द ही आगे की प्रक्रिया पूरी कर निर्माण कार्य शुरू होगा। -एसबी सिंह, परियोजना प्रबंधक, एनएचएआई

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

पॉपुलर

शिक्षा को अवसर में बदलने की चुनौती #Realviewnews

रीयल व्यू न्यूज ।  (शिक्षक दिवस पर आमंत्रित लेख)   लेख - अनिल यादव ( मैनेजमेंट गुरु )   लंबे अरसे के बाद आई...

अन्य

- Advertisement -

खबरे आज की

More Articles Like This