31.1 C
Delhi
Friday, September 17, 2021

वरिष्ठ पत्रकार रामजी जयसवाल की भांजी ने लहराया परचम #Realviewnews

जरूर पढ़े

वैश्विक स्तर पर भारत की सफलता के नये शिल्पकार #Realviewnews

सात वर्ष के ऐतिहासिक कालखंड में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वैश्विक स्तर पर भारत की सफलता और साख के...

धूम धाम से मना संत कीनाराम का जन्मोत्सव #Realviewnews

प्रसाद के साथ था भन्डारे का आयोजन डोभी, जौनपुर । अघोराचार्य संत कीनाराम का 422वां जन्मोत्सव डोभी क्षेत्र के हरिहरपुर...

डोभी : अमृत महोत्सव के रूप में मना 75 वां स्वतंत्रता दिवस #Realviewnews

रियल व्यू न्यूज के समस्त पाठकों को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं ! रिपोर्ट - वारीन्द्र पाण्डेय  डोभी, जौनपुर ।...

माता-पिता, गुरुजनों एवं भाइयों को दिया सफलता का सारा श्रेय

मां की मृत्यु के दौरान आनलाइन परीक्षा देकर सौम्या ने दी श्रद्धांजलि

( सौम्या जयसवाल, फाईल फोटो )

रिपोर्ट – चन्दन अग्रहरि 

जौनपुर। शाम सूरज को ढलना सिखाती है, शमा परवाने को जलना सिखाती है, गिरने वाले को होती तो है तकलीफ, पर ठोकर ही इंसान को चलना सिखाती है। उक्त बातें सिकरारा विकास खण्ड के शेरवा बाजार के जायसवाल परिवार पर बिल्कुल सटीक बैठती है। उक्त बाजार निवासी रमेश चंद्र जायसवाल की बेटी सौम्या जायसवाल ने आखिरकार परिवार का मस्तक गर्व से एक बार फिर ऊंचा कर दिया। मां स्व. किरन जायसवाल के सपने को पूरा करने के लिए बेटी सौम्या वह करने निकल चुकी है जो शायद परिवार में कभी किसी ने नहीं किया है।

मध्यम परिवार से ताल्लुक रखने वाली सौम्या ने महाराष्ट्र प्रदेश के सेण्ट जॉन इंस्टीट्îूट ऑफ फार्मेसी एण्ड रिसर्च से बीफार्मा अंतिम वर्ष की परीक्षा न सिर्फ अच्छे अंक से उत्तीर्ण किया, बल्कि टॉप 10 में भी जगह बना ली। सौम्या को 10 में से 9.23 अंक प्राप्त हुये हैं जो टॉपर की श्रेणी में आता है। गौरतलब हो कि रोजी-रोटी के लिए मां-बाप लगभग 20 वर्ष से मुम्बई में रह रहे हैं। वहीं पर सौम्या की पढ़ाई चल रही है। इसी बीच वर्ष 2019 में सौम्या की मां किरन जायसवाल कैंसर जैसी गम्भीर बीमारी से पीड़ित हो गयी। हालांकि उन्होंने अपनी बेटी को मेडिकल फील्ड में मुकाम बनाने का सपना देखा और उसका बीफार्मा में प्रवेश महाराष्ट्र प्रदेश के सेण्ट जॉन इंस्टीट्यूड ऑफ फार्मेसी एण्ड रिसर्च में करा दिया।

बचपन से ही मेधावी रही सौम्या ने प्रथम वर्ष अच्छे अंक से उत्तीर्ण किया। मां की तबियत खराब होने से थोड़ी उदास जरूर हुई लेकिन हिम्मत नहीं छोड़ा। एक तरफ मां का इलाज चल रहा था तो दूसरी तरफ सौम्या घर संभालने के साथ ही पढ़ाई भी कर रही थी। लॉक डाउन के दौरान मां की तबियत बिगड़ गयी जो महाराष्ट्र से अपने गाँव आ गईं। जौनपुर शहर में ही मायका है और सौम्या जायसवाल अपने मामा संपादक रामजी जायसवाल के घर पर ही रहने लगीं और यहीं से आनलाइन एक्जाम दी थी। कुछ दिन बीतने के बाद सौम्या की मां ने इस दुनिया को अलविदा कह दिया। इस दौरान सौम्या मां के साथ नहीं थी जो मुम्बई में ही रहकर पढ़ाई कर रही थी।

जब वह घर आयी तो बहुत रोयी लेकिन फिर भी मां से किया वादा नहीं भूली। इस दौरान वह आनलाइन एग्जाम देती रही। नतीजा आज सबके सामने है। वह न सिर्फ 9.23 (10) अच्छे अंक अर्जित की, बल्कि कालेज में टॉप 10 में जगह भी बना ली। इस बाबत पूछे जाने पर सौम्या ने इस सफलता का सारा श्रेय अपनी माता किरन जायसवाल, पिता रमेश चन्द्र जायसवाल सहित गुरुजनों एवं भाइयों को दिया। उसने यह भी बताया कि आगे की पढ़ाई जारी रखते हुए वह मास्टर इन साइंस एम. फार्मा करेगी। वहीं दूसरी ओर सौम्या की इस उपलब्धि से परिवार सहित पूरे क्षेत्र में खुशी का माहौल व्याप्त हो गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

पॉपुलर

शिक्षा को अवसर में बदलने की चुनौती #Realviewnews

रीयल व्यू न्यूज ।  (शिक्षक दिवस पर आमंत्रित लेख)   लेख - अनिल यादव ( मैनेजमेंट गुरु )   लंबे अरसे के बाद आई...

अन्य

- Advertisement -

खबरे आज की

वैश्विक स्तर पर भारत की सफलता के नये शिल्पकार #Realviewnews

सात वर्ष के ऐतिहासिक कालखंड में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वैश्विक स्तर पर भारत की सफलता और साख के नए कीर्तिमान गढ़े हैं। उन्होंने...

More Articles Like This