41 C
Delhi
Thursday, April 29, 2021

भारतीय संस्कृति की रक्षा संस्कृत से ही संभव: स्वामी रामभद्राचार्य #Realviewnews

जरूर पढ़े

यूपी में कोरोना : अब तीन दिन रहेगा लॉकडाउन, 10 प्वाइंट में जानें क्या रहेगा बंद और क्या खुला #Realviewnews

रिपोर्ट - वारीन्द्र पाण्डेय  उत्तर प्रदेश में तेजी से बढ़ते कोरोना के मामले नित नए रिकॉर्ड बना रहे हैं। प्रदेश...

समय कम मिला लेकिन लोगों के दिलों में जगह बनाने में सफल हुई : साक्षी सिंह रघुवंशी #Realviewnews

डोभी, जौनपुर । स्थानीय क्षेत्र के वार्ड संख्या 82 से जिलापंचायत सदस्य पद की उम्मीदवार साक्षी सिंह रघुवंशी ने...

यूपी पंचायत चुनाव: यूके से पढ़ाई और आईआईएम बैंगलोर से एमबीए करने वाली उर्वशी चुनाव में आजमाएंगी किस्मत #Realviewnews

उत्तर प्रदेश के जौनपुर जिले में पंचायत चुनाव में बाहुबल के साथ-साथ ग्लैमर का तड़का लग चुका है। इसी...

सुजानगंज (जौनपुर) ।  भारतीय संस्कृति दुनिया की सर्वश्रेष्ठ संस्कृति है। भारतीय संस्कृति की रक्षा संस्कृत से ही की जा सकती है। संस्कृत के अभाव में संस्कृति की रक्षा संभव नहीं है। उक्त बातें गौरी शंकर संस्कृत महाविद्यालय सुजानगंज में मंगलवार को आयोजित सारस्वत सम्मान समारोह में मंगलवार की देरशाम को पद्म विभूषित जगतगुरु स्वामी रामभद्राचार्य ने कही।स्वामीजी ने कहा कि इसी विद्यालय में मेरी प्रारंभिक शिक्षा हुई है इसलिए यह भूमि मेरे लिए पूजनीय है। आज मुझे अपने विद्या, विद्यालय और गुरु पर स्वाभिमान है। इस विद्यालय की ही देन है कि आज मैं यहां तक पहुंच सका हूं। इसलिए आज मैं न सिर्फ भारत में, बल्कि दुनिया में जहां जाता हूं इस विद्यालय का गुणगान करता हूं। इस विद्यालय का मैं सदैव ऋणी रहूंगा। उन्होंने कहा कि अपनी सोच में हमेशा नवीनता लानी चाहिए। भगवान का आदर और प्रेम जहां दोनों रहते हैं उसी को भारत कहा जाता है। हम सबको सदैव प्रभु की सेवा में लीन रहना चाहिए। स्वामीजी ने कहा कि आज मैं अपनी 217 वीं पुस्तक लिख रहा हूं और मैंने संस्कृत में तीन महाकाव्य, जबकि हिदी में दो महाकाव्य लिखा है। कहा कि देश, परिवेश और उद्देश्य पर जिसे गर्व न हो उसका जीवन व्यर्थ है। कर्म रूपी पुष्प से ही भगवान प्रसन्न होते हैं। इसलिए हम सबको पूरी ईमानदारी के साथ अपने कर्म को करते रहना चाहिए। उपस्थित जनसमुदाय को सीख देते हुए उन्होंने कहा भगवान गुरु और विद्या पर स्वाभिमान होना चाहिए। आप लोगों ने जो मेरा सम्मान किया है उसके लिए मेरा रोम-रोम आप सबका ऋणी हूं। कार्यक्रम का शुभारंभ सरस्वती वंदना से किया गया। तत्पश्चात क्षेत्र के वरिष्ठ 108 लोगों ने माल्यार्पण कर पूज्य गुरुदेव का स्वागत किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता दिव्यांग विश्वविद्यालय चित्रकूट के कुलपति प्रोफेसर योगेश चंद्र दुबे तथा संचालन प्रोफेसर रामसेवक दुबे ने किया। इस मौके पर डाक्टर जयप्रकाश त्रिपाठी, डाक्टर विनय त्रिपाठी, इंदु प्रकाश त्रिपाठी, लाल बिहारी, ज्ञानचंद्र दुबे, आचार्य माधव प्रसाद द्विवेदी, राम मनोहर तिवारी, डाक्टर मिथिलेश त्रिपाठी, अवधेश सिंह, शीतला प्रसाद सिंह सहित क्षेत्र के तमाम वरिष्ठ लोग उपस्थित थे।

विज्ञापन

यदि आप डोभी में प्राथमिक शिक्षा से लगायत उच्च शिक्षा के बेहतर इन्स्टिट्यूशन में ऐडमिशन लेना चाहते हैं, तों आज ही विजिट करें – 
Modern Wings Public School From Nursery  to 11th, Affiliated with CBSE., New Delhi (A Co-Educational School), Address – Kopa, Patarahi, Jaunpur.
आचार्य बलदेव पीजी कालेज, कोपा, पतरही, जौनपुर । डायरेक्टर – अनिल यादव “मैनेजमेंट गुरु”

विज्ञापन – शिवबालक यादव

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

पॉपुलर

शिक्षा को अवसर में बदलने की चुनौती #Realviewnews

रीयल व्यू न्यूज ।  (शिक्षक दिवस पर आमंत्रित लेख)   लेख - अनिल यादव ( मैनेजमेंट गुरु )   लंबे अरसे के बाद आई...

अन्य

- Advertisement -

खबरे आज की

यूपी में कोरोना : अब तीन दिन रहेगा लॉकडाउन, 10 प्वाइंट में जानें क्या...

रिपोर्ट - वारीन्द्र पाण्डेय  उत्तर प्रदेश में तेजी से बढ़ते कोरोना के मामले नित नए रिकॉर्ड बना रहे हैं। प्रदेश में इन दिनों तीन लाख...

More Articles Like This