24.1 C
Delhi
Friday, November 26, 2021

भगवान के 24 अवतारों का विस्तार ही श्रीमदभागवत महापुराण है : दिव्य मोरारी बापू #Realviewnews

जरूर पढ़े

हे ! राम … महात्मा गाँधी जी की जयंती पर विशेष व्यंग्य #Realviewnews

हे ! राम ... महात्मा गाँधी जी की जयंती पर विशेष व्यंग्य - वारीन्द्र पाण्डेय कल रात अचानक बापू से मुलाक़ात हो...

जौनपुर : सफाई कर्मचारियों ने भरी हुंकार, जाने क्या है मामला #Realviewnews

रिपोर्ट - वारीन्द्र पाण्डेय जौनपुर। उत्तर प्रदेश पंचायती राज ग्रामीण सफाई कर्मचारी संघ ने बृहस्पतिवार को कलेक्ट्रेट परिसर में धरना...

जौनपुर : अवैध रूप से चल रहे 362 ईट-भट्टे होंगे बंद #Realviewnews

जौनपुर  ।  मानक के विपरीत जनपद में चल रहे 362 ईंट भट्ठे अब बंद होंगे। इन भट्ठों की धुआं...

रिपोर्ट – दीपक शुक्ला 

मुंगरबादशाहपुर, जौनपुर । भगवान के 24 अवतार है इन अवतारों की कथा का विस्तार ही श्रीमद्भागवत महापुराण है । भगवान की भक्ति ही मानव जीवन का परम लक्ष्य है । यह बातें नगर के कटरा मुहल्ले में स्थित सृष्टि पैलेस में आयोजित 10 दिवसीय भागवत कथा में शुक्रवार की शाम पुष्कर धाम से पधारें पूज्य सन्त महामंडलेश्वर दिब्य मोरारी बापू ने श्रद्धालु भक्तों को सम्बोधित करते हुए कही । श्री दिब्य मोरारी बापू ने कहा नैमिषारण्य की पावन धरती पर ऋषियों ने सूत जी महाराज से 6 प्रश्न किया । पहला समस्त शास्त्रों का सार क्या है , दूसरे में भगवान के अवतार का क्या प्रयोजन है , तीसरे में मानव जीवन का क्या ध्येय है , चौथे में अवतार लेकर भगवान क्या करते है , पांचवे में भगवान के कितने अवतार हुए , छठवें भगवान के परमधाम गमन के बाद धर्म किसकी शरण मे जाता है , सूतजी ने बताया समस्त शास्त्रों का सार भगवान का नाम है । भगवान के अवतार का प्रयोजन सज्जनों की रक्षा है । मानव जीवन का परम लक्ष्य भगवान की भक्ति है । अवतार लेकर भगवान धर्म की धर्म की स्थापना एवं दुष्टों का विनाश करते है । भगवान के 24 अवतार है भगवान के परमधाम गमन के बाद धर्म शास्त्र की शरण मे चला जाता है । मंच का संचालन करते हुए स्वामी घनश्याम दास जी महाराज ने कहा कि ऋग्वेद विश्व का सबसे प्राचीन ग्रंथ है और सनातन धर्म सबसे प्राचीन धर्म है ,18 पुराण , महाभारत , उपनिषद शास्त्र आदि ग्रंथ लिखा है । आप जीवन भर पढ़े तब भी नही पढ़ सकते इसलिए वेद ब्यास जी भगवान के अवतार कहे गए । विदुर जी ने पांडवों की सहायता की , लाक्षागृह षड्यंत्र के द्वारा दुर्योधन पांडवो को मारना चाहता था लेकिन विदुर जी युक्तियों के द्वारा पांडवो की रक्षा किया । मुख्य यजमान पूर्व चेयरमैन कपिलमुनि व सुरेश सोनी है । कथा में मुख्य रूप से कृष्णगोपाल जायसवाल , राजेश गुप्ता , ओंकार मिश्र ,राजकुमार गुप्ता सहित सैकड़ों श्रद्धालु उपस्थित रहे ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

पॉपुलर

शिक्षा को अवसर में बदलने की चुनौती #Realviewnews

रीयल व्यू न्यूज ।  (शिक्षक दिवस पर आमंत्रित लेख)   लेख - अनिल यादव ( मैनेजमेंट गुरु )   लंबे अरसे के बाद आई...

अन्य

- Advertisement -

खबरे आज की

More Articles Like This