21.7 C
Delhi
Wednesday, March 3, 2021

बिहार के ताकतवर नेता की बेटी से अखिलेश यादव की शादी कराना चाहते थे अमर सिंह, मुलायम ने भी शिवपाल को सौंपी थी खास जिम्मेदारी #Realviewnews

जरूर पढ़े

जिलाधिकारी ने चौपाल में सुनी जनसमस्याएं #Realviewnews

रिपोर्ट - प्रणय तिवारी शाहगंज, जौनपुर । क्षेत्र के ऊंचगांव में बुधवार दोपहर जिलाधिकारी ने चौपाल में लोगों की समस्याओं...

डीएम के औचक निरीक्षण में बगैर सूचना के दो कर्मचारी मिले गायब #Realviewnews

कारण बताओ नोटिस जारी कर एक दिन का वेतन काटने का निर्देश रिपोर्ट - शिवशंकर दूबे  खुटहन ( जौनपुर) । जिलाधिकारी...

कलम के सिपाही ‘प्रखर’ को मिला जौनपुर रत्न सम्मान #Realviewnews

रिपोर्ट - शिवशंकर दूबे  खुटहन ( जौनपुर) । सामाजिक संस्था कमला प्रसाद मेमोरियल ट्रस्ट द्वारा बुधवार को दौलतपुर गांव में...

रियल व्यू न्यूज, डेस्क । 

यह साल था 1995। लखनऊ के कैंट इलाके में एक अनौपचारिक पार्टी चल रही थी। लोग बातों में मशगूल थे। हंसी-ठहाकों का दौर चल रहा था। इसी दौरान युवा अखिलेश यादव की नजर पहली बार डिंपल पर पड़ी। यह पहला मौका था जब दोनों मिले थे। अखिलेश ने हाल ही में मैसूर से इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी की थी। जबकि 17 साल की डिंपल रावत तब आर्मी पब्लिक स्कूल में पढ़ रही थीं। अखिलेश यादव उत्तर प्रदेश के ताकतवर राजनीतिक घराने से ताल्लुक रखते थे। वहीं डिंपल के पिता एससी रावत उस वक्त सेना में बतौर कर्नल अपनी सेवा दे रहे थे और बरेली में पोस्टेड थे।

दोनों के बीच नजदीकियां बढ़ीं और मिलने-जुलने का सिलसिला शुरू हुआ। अखिलेश और डिंपल अक्सर लखनऊ कैंट के सूर्या क्लब या महमूद बाग क्लब में मिला करते थे। साल भर बाद यानी साल 1996 में अखिलेश ने एनवायरमेंटल इंजीनियरिंग में मास्टर्स की पढ़ाई के लिए सिडनी जाने का फैसला लिया। लेकिन वे वहां भी डिंपल को नहीं भूले। अखिलेश अक्सर डिंपल को पत्र लिखा करते थे और कई बार पत्र के साथ ग्रीटिंग कार्ड भी भेजते थे। जब वे पढ़ाई कर वापस लौटे तो डिंपल से शादी का फैसला किया।

यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव व उनकी पत्नी डिंपल यादव ( फाईल फोटो ) । #Realviewnews

वरिष्ठ पत्रकार सुनीता एरॉन अखिलेश यादव की जीवनी ”विंड्स ऑफ चेंज” में लिखती हैं कि अखिलेश और डिंपल के बीच जमीन आसमान का अंतर था। दोनों दो अलग-अलग जाति से ताल्लुक रखते थे, एक यादव और दूसरा ठाकुर। एक और समस्या यह थी कि उस वक्त अलग उत्तराखंड की मांग चरम पर थी। साल 1994 में मुलायम के मुख्यमंत्री रहते मुजफ्फरनगर के रामपुर तिराहा पर अलग राज्य की मांग कर रहे प्रदर्शनकारियों पर पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया था। पहाड़ से ताल्लुक रखने वाले लोग इसके लिए मुलायम को जिम्मेदार मानते थे और उनसे बेहद खफा हो गए थे।

‘टीपू’ ने दादी को लिया भरोसे में:

इन तनाव के बीच अखिलेश ने अपने परिवार को डिंपल के साथ अपने रिलेशनशिप के बारे में बताने का फैसला लिया। अखिलेश अपनी दादी मूर्ति देवी के बेहद करीब थे और सबसे पहले उन्हें ही अपने रिलेशनशिप के बारे में बताया। हालांकि अखिलेश को भरोसा नहीं था कि उनकी दादी इतनी जल्दी मान जाएंगी। सुनीता एरॉन लिखती हैं कि जब अखिलेश ने अपनी दादी को रिलेशनशिप के बारे में बताया और कहा कि वे डिंपल से शादी करना चाहते हैं तब उन्होंने (अखिलेश की दादी ने) कहा, ‘तुम किसी भी दूसरी जाति में शादी करो, पर करो जल्दी…’।

मुलायम ने शिवपाल को सौंपी जिम्मेदारी:

धीरे-धीरे बात मुलायम सिंह यादव तक भी पहुंची। उस वक्त वे केंद्रीय रक्षा मंत्री हुआ करते थे। उन्हें अखिलेश के जिद्दी स्वभाव के बारे में बखूबी पता था और कहा करते थे ‘टीपू को कोई जल्दी नहीं मना सकता’। हालांकि मुलायम के मन में तमाम तरह की शंकाएं थीं। मुलायम डिंपल के खिलाफ नहीं थे, लेकिन उन्हें अलग उत्तराखंड की मांग कर रहे एक्टिविस्टों का डर था कि कहीं वे हंगामा न खड़ा कर दें।

ऐसे में उन्होंने अपने भाई शिवपाल सिंह यादव को जिम्मेदारी सौंपी कि वह अखिलेश को मनाएं और उन्हें सारी स्थिति से अवगत कराएं। चूंकि अखिलेश ने बचपन का काफी वक्त शिवपाल के साथ गुजारा था, ऐसे में मुलायम को भरोसा था कि शायद अखिलेश मान जाएं! हालांकि अखिलेश ने डिंपल से शादी का पूरा मन बना लिया था।

अमर सिंह का कुछ और था प्लान:

वो दौर ऐसा था जब अमर सिंह और मुलायम की दोस्ती की मिसालें दी जाती थीं। अमर सिंह तब समाजवादी पार्टी के महासचिव थे और मुलायम सिंह के दाहिने हाथ कहे जाते थे। अखिलेश यादव उन्हें अंकल कह कर बुलाया करते थे। अखिलेश के मैसूर से लेकर सिडनी तक एडमिशन और दूसरी तमाम चीजों का ख्याल अमर सिंह ही रखते थे।

अखिलेश यादव की जीवनी के मुताबिक अमर सिंह, अखिलेश की शादी बिहार के एक ताकतवर राजनीतिक घराने से ताल्लुक रखने वाले नेता की बेटी से कराना चाहते थे। तब मीडिया में ऐसी खबरें भी आईं कि उस वक्त वह नेता अपनी बेटी के साथ लखनऊ भी पहुंच गए थे। हालांकि अखिलेश, डिंपल से अपने रिश्ते को लेकर साफ थे।

सब अमर सिंह ने किया फाइनल:

बाद में मुलायम ने अपने कई पहाड़ी दोस्तों से भी अखिलेश और डिंपल की शादी को लेकर सलाह-मशविरा किया, जिसमें सूर्यकांत धस्माना भी शामिल थे। जो डिंपल के परिवार के काफी करीब थे और दोनों का गांव अगल-बगल था। तमाम बातचीत के बाद तय किया गया कि दोनों की शादी करा दी जाए।

मुलायम को मनाने में अमर सिंह ने भी अहम भूमिका निभाई थी। इस तरह, 24 नवंबर 1999 को सैफई स्थित मुलायम के पैतृक गांव में अखिलेश और डिंपल की बेहद धूमधाम से शादी हुई। शादी का तमाम अरेंजमेंट अमर सिंह ने ही किया था। शादी में किसको किसको बुलाना है, सियासत से लेकर सिनेमा तक के मेहमानों की लिस्ट से लेकर मेन्यू तक उन्होंने ही फाइनल किया था।

विज्ञापन

उच्च शिक्षा का बेहतर शिक्षण संस्थान, वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय से संबद्ध

आचार्य बलदेव ग्रुप आफ इन्स्टिट्यूशन, कोपा, पतरही, जौनपुर । 

प्रबंधक – अनिल यादव मैनेजमेंट गुरु 

अगर आप बी.टेक, पालिटेक्निक, बीए, बीएससी, बीकाम, एमए, एमएससी, एमकाम के साथ साथ बीएड,  बीटीसी, बी. फार्मा, डी. फार्मा, व अन्य डिप्लोमा के लिए कालेज खोज रहें हैं

तों आज हीं ज्वाइन करें अम्बिका प्रसाद इंस्टीट्यूट आफ टेक्नोलॉजी एण्ड पॉलीटेक्निक । 

शाहगंज में बेहतर शिक्षा का हब : अंबिका प्रसाद इंस्टिट्यूट आफ टेक्नॉलजी एंड पालीटेक्नीक #Realviewnews

गांव की जनता करे पुकार,
शिवबालक हों फिर एक बार

सिधौना की जनता करें पुकार,
सुनील यादव हों अबकी बार !
सिधौना क्षेत्र से युवा कर्मठ एवं जनप्रिय जिला पंचायत सदस्य पद के भावी प्रत्याशी सुनील यादव की तरफ से गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

पॉपुलर

शिक्षा को अवसर में बदलने की चुनौती #Realviewnews

रीयल व्यू न्यूज ।  (शिक्षक दिवस पर आमंत्रित लेख)   लेख - अनिल यादव ( मैनेजमेंट गुरु )   लंबे अरसे के बाद आई...

अन्य

जाने! आज का पञ्चाङ्ग #Realviewnews

पं. सन्दीप दूबे 27 फरवरी 2021 शनिवार 🪐 सम्वत् - 2077 🪐 शाके - 1942 🪐 अयन - उत्तरायण 🪐 दक्षिणगोल 🌧️ ऋतु - शिशिर ऋतु 🌖 मास - माघ 🌑 पक्ष...

कलयुग में मोक्ष का मार्ग है भागवत कथा #Realviewnews

समापन पर हुआ भंडारा चंदवक , जौनपुर । श्रीमद्भागवत कथा का श्रवण समस्त विघ्नों का नाश कर , मनुष्य को सदमार्ग पर चलने की प्रेरणा...

जौनपुर में मुंबई से प्रेमिका के लिए मोबाइल लेकर पहुंचे युवक की धुनाई #Realviewnews

गौराबादशाहपुर, (जौनपुर) । स्थानीय थाना क्षेत्र के एक गांव में शनिवार की रात प्रेमिका के लिए मुंबई से मोबाइल लेकर उसके घर पहुंच गया।...
- Advertisement -

खबरे आज की

कलम के सिपाही ‘प्रखर’ को मिला जौनपुर रत्न सम्मान #Realviewnews

रिपोर्ट - शिवशंकर दूबे  खुटहन ( जौनपुर) । सामाजिक संस्था कमला प्रसाद मेमोरियल ट्रस्ट द्वारा बुधवार को दौलतपुर गांव में समारोह आयोजित कर साहित्यकार और...

ट्रेन की चपेट में आने से युवक की मौत #Realviewnews

रिपोर्ट - रामाज्ञा यादव जलालपुर, जौनपुर । स्थानीय थाना क्षेत्र के बाकराबाद गाव के सामने जफराबाद वाराणसी रेल प्रखण्ड के अप लाईन पर बुध्दवार के...

जिलाधिकारी ने चौपाल में सुनी जनसमस्याएं #Realviewnews

रिपोर्ट - प्रणय तिवारी शाहगंज, जौनपुर । क्षेत्र के ऊंचगांव में बुधवार दोपहर जिलाधिकारी ने चौपाल में लोगों की समस्याओं को सुना तथा उसके निस्तारण...

More Articles Like This