39.1 C
Delhi
Friday, June 24, 2022

धार्मिक-सांस्कृतिक आयोजनों पर रोक आस्था पर कुठाराघात : अजय राय #Realviewnews

जरूर पढ़े

कांग्रेस ने आरती सिंह को बनाया बदलापुर विधान सभा से प्रत्याशी #Realviewnews

पूर्व सांसद स्व. कमला प्रसाद सिंह की हैं पौत्रवधु 2017 में एक भी सीट नहीं जीत पायी थीं कांग्रेस रियल व्यू...

जौनपुर में बसपा प्रत्याशियों के नाम पर अभी भी कर रही मंथन  #Realviewnews

रियल व्यू न्यूज, जौनपुर । भाजपा, सपा, कांग्रेस और आम आदमी पार्टी, वीआईपी जैसी पार्टियों ने जगह-जगह अपने प्रत्याशी...

जौनपुर के प्रतिष्ठित फर्म कीर्ति कुंज और गहना कोठी पर आयकर विभाग का छापा #Realviewnews

लंबी चल सकती है जांच की कार्यवाही रियल व्यू न्यूज, जौनपुर । शहर के बड़े सराफा कारोबारी और प्रतिष्ठित कीर्ति...

रिपोर्ट – प्रकाश सेठ 

वाराणसी । कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अजय राय ने आरोप लगाया है कि भाजपा धर्म एवं संस्कृति की बात केवल राजनीतिक लाभ के लिए करती है। उनका कहना था कि भाजपा शासन में अनियंत्रित भीड़ वाली बड़ी-बड़ी सभाओं को अनुमति दी जा रही है। मगर गहरी धार्मिक आस्था और पुरातन सामाजिक परंपराओं को रौंदा जा रहा है।

रामनगर की ऐतिहासिक रामलीला और पांच सौ साल से अधिक पुरानी नाटी इमली के नाटी इमली के भरत मिलाप जैसे सांस्कृतिक आयोजनों को अनुमति न देना सरकार के जनविरोधी फैसले का उदाहरण है। लहुराबीर स्थित कैम्प कार्यालय में बुधवार को आयोजित प्रेसवर्ता में उन्होंने कहा कि यूपी में उपचुनाव हो रहे हैं। बड़ी-बड़ी जनसभाएं हो रहीं हैं। दूसरी ओर परंपरा से जुड़े सांस्कृतिक आयोजनों से जुड़ी जनभावना को महमाहारी के नाम पर ध्वस्त किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि चेतगंज की नककटैया, देवदीपावली, पंचक्रोशी परिक्रमा और नागनथैया जैसे महत्वपूर्ण आयोजन अभी बाकी हैं। प्रशासन को संवदेनशील रवैया अपनाना चाहिए। श्री राय ने बुनकरों को संरक्षण देने की भी मांग की है। बुनकरों की मांगों को पूरा किया जाए। लाखों लोगों का पीढ़ियों से भरण-पोषण करने वाले वाराणसी वस्त्र उद्योग को संरक्षण मिलना चाहिए। प्रेसवार्ता में जिलाध्यक्ष राजेश्वर सिंह पटेल और महानगर अध्यक्ष राघवेंद्र चौबे भी मौजूद थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

पॉपुलर

शिक्षा को अवसर में बदलने की चुनौती #Realviewnews

रीयल व्यू न्यूज ।  (शिक्षक दिवस पर आमंत्रित लेख)   लेख - अनिल यादव ( मैनेजमेंट गुरु )   लंबे अरसे के बाद आई...

अन्य

- Advertisement -

खबरे आज की

More Articles Like This