38.4 C
Delhi
Monday, May 23, 2022

एक पखवाड़ा बीतने के बाद भी नहीं मिला बीएलओ को बस्ता #Realviewnews

जरूर पढ़े

कांग्रेस ने आरती सिंह को बनाया बदलापुर विधान सभा से प्रत्याशी #Realviewnews

पूर्व सांसद स्व. कमला प्रसाद सिंह की हैं पौत्रवधु 2017 में एक भी सीट नहीं जीत पायी थीं कांग्रेस रियल व्यू...

जौनपुर में बसपा प्रत्याशियों के नाम पर अभी भी कर रही मंथन  #Realviewnews

रियल व्यू न्यूज, जौनपुर । भाजपा, सपा, कांग्रेस और आम आदमी पार्टी, वीआईपी जैसी पार्टियों ने जगह-जगह अपने प्रत्याशी...

जौनपुर के प्रतिष्ठित फर्म कीर्ति कुंज और गहना कोठी पर आयकर विभाग का छापा #Realviewnews

लंबी चल सकती है जांच की कार्यवाही रियल व्यू न्यूज, जौनपुर । शहर के बड़े सराफा कारोबारी और प्रतिष्ठित कीर्ति...

बगैर किट के गाँव नहीं जा रहे बीएलओ

सूची में नाम दर्ज कराने को लेकर नये मतदाता परेशान

रिपोर्ट – शिवशंकर दूबे

खुटहन, जौनपुर । ग्राम पंचायतो के चुनाव को लेकर मतदाता सूची का 1 अक्टूबर से पुनर्निरीक्षण का चुनाव आयोग से एलान होते ही गांवो में जहां चुनावी सरगर्मी तेज हो गई है। वहीं पुनर्निरीक्षण की नियत तिथि से एक पखवाड़ा बीतने को है, लेकिन सूची के साथ अभी तक गांवों में बीएलओ के न पहुंचने से नये जुड़ने वाले मतदाताओं में रोश ब्याप्त है। वे आये दिन बीएलओ की खोज में विद्यालयो का चक्कर लगा रहे है। गावों में तैनात बीएलओ का कहना है कि अभी हमें बस्ता ही उपलब्ध नहीं कराया जा सका है। ऐसे में हम गांव जाकर कर ही क्या सकते है।

चुनाव आयोग के निर्देशानुसार पहली अक्टूबर से पुरानी मतदाता सूची के साथ नाम बढ़ाने या काटने व सुधार करने के अलग अलग फार्मो के साथ बीएलओ गांव में पूर्व निर्धारित स्थल प्राथमिक विद्यालय, पंचायत भवन या आँगनबाड़ी केन्द्रों पर मौजूद रहेंगे। सूची का अंतिम प्रकाशन 31दिसंबर को होना है। आदेश के 12 दिन बीत जाने के बाद भी दर्जनो गावों में बीएलओ के दर्शन नहीं हुए। यहां तक कि अभी तक तमाम ग्रामीणो को यह भी पता नहीं कि हमारे गांव में किसे बीलओ की
जिम्मेदारी सौंपी गई है। लापरवाही का यही आलम रहा तो पुनर्निरीक्षण का शत प्रतिशत अनुपालन होना असंभव दिख रहा है।

पूरे विकास खण्ड में कुल 95 ग्राम पंचायते है। जिसमें 333 राजस्व गांव है। सभी गावों को मिलाकर पौने दो लाख से अधिक मतदाता है। प्रत्येक गावों में एक एक बीएलओ की तैनाती की गई है। एक चौथाई गावों को छोड़ कही भी निर्धारित स्थल पर जिम्मेदार पहुंच नही रहे है। जहाँ बीएलओ मौजूद भी हैं। उनके पास न तो सूची है और न ही फार्म। ऐसे में यह महत्वपूर्ण कार्य अधूरा ही रह जाना अवश्यंभावी दिख रहा है। इस संबंध में एसडीएम शाहगंज से बात करने का प्रयास किया गया तो उन्होने फोन ही नहीं उठाया। तहसीलदार ने पीसीएस परीक्षा ड्यूटी का हवाला देकर बाद में बताने की बात कही। वहीं एडीओ पंचायत बिजय बहादुर ने बताया कि बीएलओ किट तहसील मुख्यालय पर आगयी है। जल्द ही उसका बितरण किया जायेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

पॉपुलर

शिक्षा को अवसर में बदलने की चुनौती #Realviewnews

रीयल व्यू न्यूज ।  (शिक्षक दिवस पर आमंत्रित लेख)   लेख - अनिल यादव ( मैनेजमेंट गुरु )   लंबे अरसे के बाद आई...

अन्य

- Advertisement -

खबरे आज की

More Articles Like This