25.1 C
Delhi
Thursday, November 25, 2021

उफ्फ महंगाई : आम आदमी के सब्जी से गायब होने की कगार पर सरसों का तेल #Realviewnews

जरूर पढ़े

हे ! राम … महात्मा गाँधी जी की जयंती पर विशेष व्यंग्य #Realviewnews

हे ! राम ... महात्मा गाँधी जी की जयंती पर विशेष व्यंग्य - वारीन्द्र पाण्डेय कल रात अचानक बापू से मुलाक़ात हो...

जौनपुर : सफाई कर्मचारियों ने भरी हुंकार, जाने क्या है मामला #Realviewnews

रिपोर्ट - वारीन्द्र पाण्डेय जौनपुर। उत्तर प्रदेश पंचायती राज ग्रामीण सफाई कर्मचारी संघ ने बृहस्पतिवार को कलेक्ट्रेट परिसर में धरना...

जौनपुर : अवैध रूप से चल रहे 362 ईट-भट्टे होंगे बंद #Realviewnews

जौनपुर  ।  मानक के विपरीत जनपद में चल रहे 362 ईंट भट्ठे अब बंद होंगे। इन भट्ठों की धुआं...

रियल व्यू न्यूज, जौनपुर । बाजार में सरसों के तेल की कीमत जितनी तेजी से बढ़ रही है अगर इसी रफ्तार बढ़ती रही तो सरसों का तेल आम आदमी की पहुंच से दूर हो जाएगा। छह महीने के अंदर सरसों के तेल की कीमत 50 रुपये प्रति लीटर बढ़ गई है। इसमें प्रति लीटर 30 रुपये की बढ़ोत्तरी महज 15 दिनों के भीतर हुई है। डालडा और फार्च्यून तेल की कीमतों में भी तेजी आई है। राहत की बात यह है कि अरहर समेत अन्य दाल की कीमतों में कमी आई है।

उफ्फ महंगाई : आम आदमी के सब्जी से गायब होने की कगार पर सरसों का तेल #Realviewnews

लॉक डाउन के दौरान सरसों का तेल बाजार में 90 से 95 किलो था, जबकि आज बाजार में सरसों का तेल 140-145 रुपये किलो बिक रहा है। सरसों तेल में प्रति किलो 30 रुपये की बढ़ोत्तरी महज 15 दिन के भीतर हुई है। फुटकर बाजार में 15 दिन पहले सरसों का तेल 110 रुपये किलो था। बुधवार को बाजार में सरसों का तेल 140-145 रुपये किलो बिका। लॉक डाउन के दौरान सरसों तेल का भाव 95 से 100 रुपये किलो था। इस हिसाब से पिछले छह महीने के भीतर सरसों तेल की कीमत प्रति किलो 50 फीसदी बढ़ गया। सरसों की तेल की कीमत में लगातार आ रही तेजी से कारोबारी भी हैरान हैं। अनाज व्यापार संघ के अध्यक्ष संजय केडिया का कहना है कि अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर सोयाबीन और पॉम आयल की कीमत बढ़ने की वजह से बाजार में सरसों तेल की मांग बढ़ी है। इसके अलावा ठंड के मौसम में वैसे भी लोग सरसों के तेल की मांग बढ़ जाती है। सरसों तेल की कीमत बढ़ने की वजह से ही रिफाइंड तेल और वनस्पति घी की कीमतें भी बढ़ी हैं। 15 दिन पहले रिफाइंड तेल 100 रुपये किलो की दर से था जो बढ़कर 130 रुपये किलो हो गया। वनस्पति घी 15 दिन पहले 110 रुपये किलो था जो 120 रुपये किलो में बिक रहा है। घी और तेल के थोक कारोबारी किशन हरलालका कहते हैं कि यूपी और पंजाब में सरसों की फसल मार्च अप्रैल महीने में आएगी। नई फसल आने के बाद ही सरसों तेल की कीमत कम होने के आसार हैं। बाजार में दाल की कीमतों में नरमी आई है। अरहर की दाल महीने भर पहले 110 से 120 रुपये किलो थी जो घटकर 85 से 95 रुपये प्रति किलो हो गई। मटर और चना की दाल की भी कीमतें घटी हैं। दाल की कीमतें घटने के वजह मानी जा रही है कि महाराष्ट्र और कर्नाटक में दाल की फसल बाजार में आ चुकी है। राजस्था न में चना की भी फसल आ चुकी है।

विज्ञापन

शाहगंज में बेहतर शिक्षा का हब : अंबिका प्रसाद इंस्टिट्यूट आफ टेक्नॉलजी एंड पालीटेक्नीक #Realviewnews

उच्च शिक्षा का बेहतर शिक्षण संस्थान, वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय से संबद्ध

आचार्य बलदेव ग्रुप आफ इन्स्टिट्यूशन, कोपा, पतरही, जौनपुर । 

प्रबंधक – अनिल यादव मैनेजमेंट गुरु 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

पॉपुलर

शिक्षा को अवसर में बदलने की चुनौती #Realviewnews

रीयल व्यू न्यूज ।  (शिक्षक दिवस पर आमंत्रित लेख)   लेख - अनिल यादव ( मैनेजमेंट गुरु )   लंबे अरसे के बाद आई...

अन्य

- Advertisement -

खबरे आज की

More Articles Like This