27.1 C
Delhi
Sunday, October 24, 2021

उच्च न्यायलय के आदेश पर पुलिस प्रशासन ने दिलाया कब्जा #Realviewnews

जरूर पढ़े

हे ! राम … महात्मा गाँधी जी की जयंती पर विशेष व्यंग्य #Realviewnews

हे ! राम ... महात्मा गाँधी जी की जयंती पर विशेष व्यंग्य - वारीन्द्र पाण्डेय कल रात अचानक बापू से मुलाक़ात हो...

जौनपुर : सफाई कर्मचारियों ने भरी हुंकार, जाने क्या है मामला #Realviewnews

रिपोर्ट - वारीन्द्र पाण्डेय जौनपुर। उत्तर प्रदेश पंचायती राज ग्रामीण सफाई कर्मचारी संघ ने बृहस्पतिवार को कलेक्ट्रेट परिसर में धरना...

जौनपुर : अवैध रूप से चल रहे 362 ईट-भट्टे होंगे बंद #Realviewnews

जौनपुर  ।  मानक के विपरीत जनपद में चल रहे 362 ईंट भट्ठे अब बंद होंगे। इन भट्ठों की धुआं...

52 एकड़ सोलह डिस्मिल जमीन के मालिकाना हक का मामला

रिपोर्ट – शिवशंकर दूबे 

खुटहन, जौनपुर । मरहट गांव में 52 एकड़ सोलह डिस्मिल जमीन पर मालिकाना हक को लेकर नेवासेदार और पट्टीदारो के बीच तीन दशक से चल रहे विवाद का उच्च न्यायलय के आदेश पर पटाक्षेप हो गया। माननीय न्यायालय ने नेवासेदार के पक्ष में आदेश जारी कर उसमें सभी अवैध कब्जेदारो को बाहर निकालने का निर्देश दिया। जिसके अनुपालन में गुरुवार को उपजिलाधिकारी शाहगंज राजेश वर्मा, सीओ अंकित कुमार, थानाध्यक्ष विजय शंकर सिंह, तहसीलदार अभिषेक राय, नायब तहसीलदार अमित सिंह, कानूनगो नीरज सिंह, अखिलेश यादव कई थानो की पुलिस फोर्स, दो प्लाटून पीएसी बल तथा फायर ब्रिगेड की गाड़ी के साथ गांव पहुंच गये। जमीन ने अवैध रूप से कब्जा जमाकर खेतीबाड़ी कर रहे एक दर्जन किसानों को तत्काल प्रभाव से बेदखल कर दिया गया।

गुरूवार की दोपहर सैकड़ों की संख्या में पहुँची पुलिस से पूरा गाँव छावनी में तबदील हो गया। भयभीत ग्रामीणो के घर से अधिकांस पुरूष घर छोड़कर फरार हो गए। घर के भीतर महिलाएं ही मौजूद दिखी। तहसीलदार ने लाउड हेरर के माध्यम से गांव में घूम घूम कर एनाउंस किया कि सभी 52 एकड़ जमीन नेवासेदार सुरेंद्र सिंह, अमर बहादुर और धर्मराज के पक्ष में उच्च न्यायलय ने आदेश कर दिया है। उक्त भूभाग का सीमांकन कर दिया गया है।उसमें अवैध रूप से खेतीबाड़ी कर रहे सभी कब्जेदारों को तत्काल प्रभाव से बेदखल किया जा रहा है। सभी स्वेच्छा से अपना कब्जा हटा लेगे। अन्यथा की स्थिति में उन्हें जबरन बेदखल कर उनके खिलाफ कड़ी कानूनी कार्रवाई की जाएगी। लगभग एक दर्जन अवैध कब्जेदारों ने खुद ही अपनी फसले हटाकर खेत खाली कर दिया।

ज्ञातव्य हो कि गांव निवासी बदलू सिंह को दो पुत्रियां थी। उन्होंने लगभग चार दसक पूर्व अपनी 52 एकड़ और सोलह डिस्मिल जमीन दोनों पुत्रियों के नाम वसीयत कर दिया था। उसके कुछ वर्षो बाद उनका निधन हो गया। उसके बाद इसी जमीन को लेकर वर्ष 1985 में पड़ोसी शिवसहाय सिंह, राजबहादुर, धर्मेंद्र, मनोज आदि ने न्यायालय में मुकदमा दायर कर दिया। यहां के बाद मामला उच्च न्यायलय में बिचाराधीन चल रहा था। माननीय न्यायालय के द्वारा नेवासेदारों के पक्ष में आदेश होते ही प्रशासन हरकत में आगया। बीते 16 अक्टूबर को पुलिस प्रशासन ने गांव में फ्लैग मार्च कर सभी कब्जेदारो को स्वयं से कब्जा हटा लेने का निर्देश दिया था। गुरुवार को सीमांकन होते ही सभी अवैध कब्जेदार जमीन से अपना कब्जा हटा लिए।

विज्ञापन

नीलम सिंह ( प्रमुख, खुटहन, जौनपुर ) व रमेश सिंह ( पूर्व प्रमुख )  की तरफ से नवरात्रि, दशहरा एवं दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं । 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

पॉपुलर

शिक्षा को अवसर में बदलने की चुनौती #Realviewnews

रीयल व्यू न्यूज ।  (शिक्षक दिवस पर आमंत्रित लेख)   लेख - अनिल यादव ( मैनेजमेंट गुरु )   लंबे अरसे के बाद आई...

अन्य

- Advertisement -

खबरे आज की

More Articles Like This